अशोक का शस्त्र त्याग प्रश्न उत्तर Class 8th

तो दोस्तो अगर आप भी class 8th के स्टूडेंट हैं और गूगल पर अशोक का शस्त्र त्याग प्रश्न उत्तर Class 8th को ढूंढ रहे हैं तो बिलकुल ही सही पोस्ट पर आए हैं तो चलिए इसे शुरु करते हैं

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

अशोक का शस्त्र त्याग

अशोक का शस्त्र त्याग प्रश्न उत्तर Class 8th

अभ्यास प्रश्न

1. सम्राट अशोक क्यों चिंतित थे ?

उत्तर- सम्राट अशोक चार वर्षों से भीषण युद्ध कर रहे थे। वे कलिंग को जीतना चाह रहे थे। पर कलिंग अपराजेय था। दोनों ओर के लाखों आदमी मारे गए एवं लाखों घायल हुए थे। करोड़ों की युद्ध सामग्री बर्बाद हो चुकी थी, परन्तु युद्ध जीत पाएँगे या नहीं यह अनिश्चित हो गया था। जीत कब तक मिलेगी यह ज्ञात नहीं था। इन्हीं कारणों से सम्राट अशोक चिंतित थे।

2. पद्मा अपनी सेना को युद्ध भूमि में क्या प्रण करने को कहती है ?
उत्तर- पद्मा अपनी सेना को युद्ध भूमि में यह प्रण लेने को कहती है कि जननी जन्मभूमि को पराधीन होते देखने के पूर्व हम सदा के लिए अपनी आँखें बंद कर लेंगी। अर्थात् इसके पहले कि हमारा कलिंग परतंत्र हो जाए हम इसकी स्वतंत्रता को बचाने के लिए मर मिटेंगे।

3. पद्मा की युद्ध करने की चुनौती को स्वीकार न करना अशोक के चरित्र की किस विशेषता को प्रकट करता है ?
उत्तर- अशोक भारतीय इतिहास में सफलतम शासक, प्रजापालक एवं दृढ़प्रतिज्ञ सम्राट के रूप में प्रसिद्ध है। पद्मा कलिंग महाराज की पुत्री थी। वे अशोक के समकक्ष थे। उनकी मौत हो चुकी थी। अशोक के लिए पद्मा बेटी के समान है। वह स्त्री है। इसलिए स्त्री या बेटी के साथ युद्ध करना शास्त्र विरूद्ध है। अतः महान अशोक ने पद्मा के युद्ध करने की चुनौती को अस्वीकार कर इतिहास पुरुष के रूप में अपना नाम दर्ज करा लिया।

4. पद्मा ने अशोक को क्यों जीवित छोड़ दिया?

उत्तर- पद्मा कलिंग नरेश की पुत्री है। उसे राजधर्म की जानकारी है। अतः अशोक जो तलवार फेंक चुके हैं उन पर पद्मा आक्रमण नहीं करती है। शास्त्र में लिखा है कि निहत्थे, कमजोर, स्त्री आदि पर आक्रमण नहीं करना चाहिए। पद्मा शास्त्र विरूद्ध कृत्य कर अपने प्रतापी वंश का नाम लज्जित कराना नहीं चाहती है। अतः उसने निहत्थे अशोक को जीवित छोड़ दिया।

5. पद्मा और अशोक के बीच हुए संवादों के परिणामस्वरूप अशोक के विचारों में क्या परिवर्तन आया ?

उत्तर- जब अशोक को युद्ध करने के लिए पद्मा ललकारती है तब अशोक धर्म की दुहाई देने लगता है। वह कहता है कि स्त्रियों से युद्ध करना शास्त्र विरूद्ध है। पद्मा कहती है कि शास्त्र निरपराधियों की हत्या करने को कहता है क्या ? शास्त्र माताओं की गोद एवं बहनों के सिंदूर पोंछने की भी इजाजत नहीं देता। फिर चार साल से युद्ध क्यों कर रहे हो।

सम्राट अशोक इसी युद्ध के बाद युद्ध न करने का प्रण लेते हैं। इन बातों का अशोक पर काफी प्रभाव पड़ा और उसने युद्ध न करने की कसम खायी। उसने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया।

अब चलिए जानते हैं अशोक का शस्त्र त्याग के कुछ और प्रश्न को

पाठ से आगे :

1. इस एकांकी का शीर्षक ‘अशोक का शस्त्र-त्याग’ रखा गया है इसके और भी शीर्षक हो सकते हैं। कोई एक शीर्षक सुझाते हुए उसके पक्ष में अपना विचार बीजिए ?

उत्तर- ‘अशोक का युद्ध परित्याग’ चूँकि अशोक और पद्मा के मध्य हुए विवाद ने अशोक की आँखें खोल दीं। उसे युद्ध में प्रभावित परिवारों के प्रति असीम अनुराग उत्पन्न हो गया। अतः उसने युद्ध न करने की प्रतिज्ञा ले ली एवं बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया।

इन्हे भी ज़रूर पढ़े (खास आपके लिए)

बड़े भाई साहब प्रश्न उत्तर

पथ की पहचान पाठ का प्रश्न उत्तर

2. पद्मा एक साहसी स्त्री थी। आपने कई स्त्रियों को साहसपूर्ण कार्य करते हुए देखा या पढ़ा होगा। किसी एक घटना के बारे में विस्तार से लिखिए।

उत्तर- इतिहास में जॉन ऑफ आर्क भी एक बहादुर महिला थी। उन्होंने भी दुश्मनों के दाँत खट्टे कर दिया था। आज भी वे इतिहास में अपनी उत्कट बहादुरी के लिए प्रसिद्ध थे।

3. इस एकांकी में आपने पढ़ा कि अशोक ने अपना शस्त्र त्याग दिया। आपकी दृष्टि में उन्होंने सही किया या गलत? आप उनकी जगह होते तो क्या करते ? तर्क सहित उत्तर दें ?

उत्तर- अशोक ने शस्त्र – त्याग दिया अर्थात् युद्ध न करने का प्रण ले लिया। अशोक ने ठीक ही किया। हम उनकी जगह होते तो यही निर्णय लेत, क्योंकि युद्ध सिवाय हानि, दुःख एवं शाप के सिवा कुछ नहीं प्रदान करता है।

अब शुरु करते हैं अशोक का शस्त्र त्याग की अनुमान और कल्पना को

अनुमान और कल्पना

1. यदि कलिंग की राजकुमारी पद्मा अशोक को क्षमा नहीं करती तो क्या होता ?

उत्तर- यदि कलिंग की राजकुमारी अशोक को क्षमा नहीं करती तो यह शास्त्र विरूद्ध कार्य होता। उनकी बदनामी होती। इतिहास मे उसे इस निंदनीय कृत्य के लिए सदा निम्न श्रेणी प्रदान की जाती। भारत के इस पराकर्मी सम्राट का भी नाम निशान इस तरह नहीं रहता।

2. प्रस्तुत एकांकी में युद्ध की चर्चा है। प्रत्येक युद्ध का कोई-न-कोई कारण होता है। कहा जाता है कि अगला युद्ध जल के लिए होगा। बताइए, ऐसा क्यों कहा जाता है।

उत्तर- प्रत्येक युद्ध के बीच वर्चस्व का स्वार्थ का मामला होता है। किसी की जमीन, किसी का पैसा, किसी की इज्जत जब दाँव पर लग जाती है तब युद्ध की चिनगारी फैलती है।

अगला युद्ध जल के लिए होगा। यह सही है। विज्ञान के आविष्कारों से आज हम आराम की जिन्दगी जी तो रहे हैं, परन्तु वह दिन दूर नहीं जब यही आराम हमें हराम की जिंदगी देगा। प्रदूषण के कारण पीने का पानी की दुर्लभता बढ़ जाएगी, तब अगला युद्ध जल के लिए ही होगा क्योंकि जल के बिना जीवन की कल्पना असंभव है।