झारखंड के दो सपूत I Jharkhand Board Class 8 Hindi Notes

तो दोस्तो अगर आप भी क्लास 8th के छात्र हैं और गूगल पर झारखंड के दो सपूत के प्रश्न उत्तर को ढूंढ़ रहे हैं तो आप बिलकुल ही सही पोस्ट पर आ चुके हैं तो चलिए शुरु करते हुए

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

झारखंड के दो सपूत

झारखंड के दो सपूत I Jharkhand Board Class 8 Hindi Notes

MCQ

1) हमारी शासन-व्यवस्था की नींव है-

(a) भारतीय इतिहास

(b) भारतीय संविधान

(c) भारतीय लोग 

(d) इनमें कोई नहीं

उत्तर-(b)

2) जयपाल सिंह मुंडा की प्रारंभिक शिक्षा किस स्कूल से हुई?

(a) मिशनरी स्कूल

(b) सरकारी स्कूल

(c) गैर सरकारी स्कूल

(d) इनमें कोई नहीं

उत्तर- (a)

3) जयपाल सिंह मुंडा बचपन से कैसे थे?

(a) कमजोर

(b) बलवान 

(c) मेधावी

(d) इनमें कोई नहीं

उत्तर-(c)

4) झारखण्ड के दो सपूत’ शीर्षक पाठ में ‘मरांग गोमके’ किन्हें कहा गया हैं?

(a) बाबू रामनारायण सिंह

(b) बिरसा मुंडा

(c) विश्वनाथ शाहदेव

(d) जयपाल सिंह मुंडा

उत्तर- (d)

5) ‘झारखण्ड के दो सपूत’ शीर्षक पाठ में ‘छोटानागपुर का शेर’ किन्हें कहा गया है? 

(a) राजेन्द्र प्रसाद

(b) बिरसा मुंडा

(c) जयपाल सिंह मुंडा

(d) बाबू रामनारायण सिंह

उत्तर-(d)

6) बाबू रामनारायण सिंह की शिक्षा-दीक्षा की मुख्य बाधा क्या थी? 

(a) पिता की दयनीय आर्थिक स्थिति

(b) विद्यालय की कमी

(c) खेलकूद

(d) आलसीपन

उत्तर- (a)

7) झारखण्ड राज्य की स्थापना कब हुई?

(a) 15 दिसम्बर 2000 ई. 

(b) 15 नवम्बर, 2000 ई.

(c) 15 दिसम्बर, 2001 ई.

(d) 15 नवम्बर, 2001 ई. 

उत्तर-(b)

8) भारतीय संविधान सभा का गठन कब हुआ?

(a) वर्ष 1946

(b) वर्ष 195

(c) वर्ष 1947

(d) वर्ष 1942

उत्तर- (a)

9) ओलम्पिक खेल एम्स्टर्डम में कब आयोजित हुआ?

(a) 1930 

(b) 1928 

(c) 1940 ई. 

(d) 1946 ई.

उत्तर-(b)

10) ‘झारखण्ड के दो सपूत” शीर्षक पाठ में बाबू रामनारायण सिंह किससे प्रभावित होकर समाज सेवा में आये?

(a) पंडित जवाहरलाल नेहरू 

(b) डॉ. राजेन्द्र प्रसाद 

(c) गाँधीजी

(d) लाल बहादुर शास्त्री

उत्तर-(b)

अब चलिए जानते हैं झारखंड के दो सपूत के पाठ के प्रश्न उत्तर को

पाठ से

1. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में झारखण्ड के किन-किन महापुरुषों का नाम आता है ?

उत्तर- भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में झारखंड के इन महापुरुषों का नाम आता है- तिलका मांझी, सिदो-कान्दु विरसा मुंडा, तेलंगा खाडिया, विश्वनाथ शाहदेव, गणपत राय, शेख भिखारी, वीर बुधू भगत, जतरा टाना भगत, बीर सलामत अली, अमानत अली शेख हारो मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा एव बाबू रामनारायण सिंह। 

2. भारतीय संविधान सभा में झारखंड क्षेत्र से किन्हें निर्वाचित सदस्य के रूप में चुना गया ? 

उत्तर- भारतीय संविधान सभा में झारखंड क्षेत्र से मरांग गोम के जयपाल सिंह मुंडा एवं बाबू रामनारायण सिंह को निर्वाचित सदस्य के रूप में चयन किया गया।

3. मरांग गोमके किन्हें कहा गया है? उन्हें ऐसा क्यों पुकारा जाता है ? 

उत्तर- मरांग गोमके का तात्पर्य है महान पुरुष या महापुरुष जयपाल सिंह मुंडा ने आदिवासी समुदाय के लिए बहुत कुछ किया इसलिए, उन्हें मरांग गोमके कहा जाता है। 1938 में इन्होंने आदिवासी महासभा का गठन किया एवं झारखंड राज्य की मांग की थी।

4. बाबू रामनारायण सिंह की शिक्षा-दीक्षा में क्या बाधा थी ? 

उत्तर- बाबू रामनारायण सिंह के पिता की आर्थिक स्थिति दयनीय थी। शिक्षा पर उनके पिताजी खर्च नहीं कर पाते थे। इनकी लगन देखकर परिवार के लोगों ने इन्हें पढ़ाई जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया।

5. जयपाल सिंह मुंडा ने आई०सी०एस० का प्रशिक्षण किस कारण छोड़ा ?

उत्तर- जयपाल सिंह मुंडा ने 1928 में एम्सटर्ड में आयोजित ओलंपिक खेलों के लिए भारतीय हॉकी टीम के कप्तान के रूप में नेतृत्व किया एवं स्वर्ण पदक हासिल किया। इस कारण से ICS का एक साल प्रशिक्षण छूट गया। एम्स्टर्डम वापस आने पर उन्हें प्रशिक्षण पूरा करने का आदेश मिला। इससे उन्होंने अपमानित महसूस किया एवं त्यागपत्र देकर छोड़ दिया। 

6. बाबू रामनारायण सिंह किससे प्रभावित होकर समाज सेवा में आए ?

उत्तर- बाबू रामनारायण सिंह राजेन्द्र प्रसाद के संपर्क में आए और उनसे प्रभावित होकर समाज सेवा का कार्य शुरू कर दिया।

 

पाठ से आगे :

1. मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा एवं बाबू रामनारायण सिंह के जीवन की कौन-कौन सी बातें आप अपने जीवन में अपनाना चाहते है?

उत्तर- दोनों महान व्यक्तियों के समाज सेवा के गुण को हम अपनाना चाहते हैं। इनलोगों की तरह मैं भी स्वाभिमानी बनना चाहता हूँ।

2. इस पाठ के लिए कोई अन्य शीर्षक सुझाइए। 

उत्तर-झारखण्ड के लाल ह

3. भारतीय संविधान किस प्रकार वर्तमान शासन व्यवस्था की नींव

उत्तर- भारतीय संविधान में नीति निर्देशक तत्व निर्देशित किए गए हैं। कार्यपालिका का विस्तृत रूप प्रदान कर उसे अधिकार दिए गए हैं। वर्तमान शासन व्यवस्था भारतीय संविधान के अनुरूप ही चलाई जाती है। अतः यह हमारे वर्तमान शासन व्यवस्था की नींव है।

Read more

डायन एक अंधविश्वास

अशोक का शस्त्र त्याग