दीपावली पर निबंध (पुरी जानकारी) – 2023


दिवाली एक ऐसा त्योहार है जिसे हर कोई पसंद करता हैं तो आज आपके पसंदीदा त्योहार दीपावली पर निबंध लिखे है जिसे पढ़ने के बाद आपकों ज़रूर पसन्द आएगा तो चलिए शुरु करते है

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

दीपावली पर निबंध (पुरी जानकारी) – 2023

प्रस्तावना

दीपावली कार्तिक मास के माह में मनाया वाला हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण त्योहार है जिसे देश के सभी छोटे बड़े परिवारों के द्वारा मनाया जाता है इस त्योहार को दीपों का त्योहार भी कहा जाता है और दीपावली के दिन पूरा भारत दीपो से जगमगा उठता है सभी लोग अपने- अपने घरो मे अलग-2 तरीको से अपने घरों को सजाते है अन्य धर्मों के लोगों के द्वारा भी इसे मनाया माता है।

दीपावली पर निबंध 200 शब्दों में

 हमारे देश भारत मे अनेको प्रकार की त्योहार मनाई जाती है जिसमे सबसे बड़ा त्योहार का दर्जा दीपावली को दिया गया है प्राचीनतम् कथाओ के अनुसार इस त्योहार के दिन भगवान राम 14 वर्ष का वनवास और रावण का वध करके अपने जन्मभूमि अयोध्या लौटे थे तो उसी के खुशी मे सभी अयोध्‌यावासीयों ने घी का दिपक जलाकर उनका स्वागत किए थे तभी से दीपावली का त्योहार मनाया जाता हैं 

इस दिपावली के शुभ अवसर पर हम सभी अपने दोस्तो ,रिश्तेदारों और पड़ोसियों को उपहार देते हैं  जिससे सभी के चेहरे पर एक अलग ही प्रकार का रौनक देखने को मिलता है इन दिनो सभी लोग काफी प्रसन्न रहते है और दिवाली के त्योहार को महत्वपूर्ण त्योहार के रूप में मनाते है।इस त्योहार के समय सभी नागरिक काफी ज्यादा खुश रहते है जिसे खुशियो के त्योहार के रूप में मनाया जाता है

यह त्योहार हिंदू धर्म के प्राचीनतम त्योहारों मे से एक है जिसमे भगवान श्रीराम कि 14वर्ष के बनवास को पूरा करके अयोध्या लौटने के खुशी मे मनाया जाता है। तब से लेकर आज तक भी इस त्योहार को धूमधाम से मनाने के साथ पहले से ही तैयारी कि जाती है। दीपों का त्योहार है आई मानो खुशियो कि बरसात है, आई, घर आँगन सब नया सा लगाता है नया नया कपड़ा सभी को फबता है

दीपावली के पावन अवसर पर धनो कि देवी माँ लक्ष्मी, भगवान गणेश और कुबेर जी की पूजा अर्चना की जाती है इस दिन पूजा करने से सर्वाधिक लाभ होता है ऐसी मान्यता है कि स्थित लग्न मे पुजा-अर्चना करने पर माता लक्ष्मी आराधको को के घर मे निवास करती है इसलिए सभी हिन्दूओं के घर मे इस दिन के शाम को दीपक जलने के बाद सभी लोग बड़े ही पवित्र मन से अपने – अपने घरो मे माँ लक्ष्मी की आराधना करते है।

People also read 

होली पर निबंध

महात्मा गांधी पर निबंध

दीपावली पर निबंध 300 शब्दो में

दीपावली जिसे लोग दीपाली के नाम से भी जाते है इसे भारत तथा दुनिया मे रहने वाले सभी हिन्दुओं के द्वारा बड़े ही महत्वपूर्ण और उच्च स्थान प्राप्त है यह दीपावली दो शब्द दीप जिसका अर्थ दीपक – और आवली का अर्थ श्रृंखला होता है यानि इसका पूरा मतलब दीपों की पंक्ति होता है इस त्योहार को कार्तिक मास के आमावस्था के दिन मनाया जाता है वैसे तो उसे हिन्दुओं के द्वारा पूरा विधिपूर्वक मनाया जाता है किन्तु अन्य धर्मों के समुदायों के द्वारा भी पटाखे और अतिशबाजी करके उज्वल कर दिया जाता है।

इस त्योहार की तैयारियां, त्योहार के आने से कई दिनों पहले से ही शुरू कर दी जाती है जिसमें लोग अपने पूरे घरों की साफ सफाई, रंगाई पुताई करने मे लग जाते है क्योंकि कहा जाता ‘है कि जिसके घरों में साफ-सफाई होती है उन्ही के घरों मे माँ लक्ष्मी दीपावली के दिन विराजमान होती है और अपना आशीवाद परिवार के सभी के उपर बरसाती जिसमें परिवार मे सुख-समृद्धि और धनों में बढोतरी होती है खैर अब तो लोग अपने घरो को दीपक के साथ लाइटो से भी चमकाते है।

इस त्योहार को दीपों के त्योहार से भी जाना जाता है इस दिन लोग मिट्टी से बने दिए जलाते है और अपनो घरों को रंगीन करते है जिसे देखने के बाद कोई भी मंत्रमुग्य हो सकता है इस त्योहार के शुभ अवसर पर बच्चे पटाखे, फुलहाड़ियां, चक्री जैसे अनेको प्रकार की पाटाखे जलाकर खुश होते है।

इस त्योहार से जुडी इतिहास की बात की जाए तो, हिन्दू “मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री राम अपने 14 वर्षो के कठीन वनवास को पूरा करके अपनी पत्नि और भाई के साथ अयोध्या नगरी मे आए थे और उस समय अमावस्या की रात थी जिस कारण पूरे अयोध्या को दीपो और फूलो से सजाकार भगवान राम का स्वागत किया गया था . ताकि भगवान राम को किसी भी प्रकार का कोई परेशानी ना हो, तभी से लेकर आज तक इसे दीपों के त्योहार और अंधेरे पर प्रकाश की जीत के रूप में मनाया जाता है।

आज के समय मे इसी अवसर पर बाजारों मे भगवान गणेश, माता लक्ष्मी, रामजी जैसे भगवान की मूर्ति खूब बिकती है। इस दौरान बाजार मे खूब चहल-पहल बढ़ जाती है लोगों के द्धारा नए-नए कपड़े, बर्तन, सोने चाँदी, मिठाइया खरीदी जाती है साथ मे यह भी माना जाता है कि इस खूबसूरत अवसर पर सभी के लिए धन और सफलता का मार्ग खुलने लगता है

इस पवित्र, त्योहार के अवसर पर कुछ असामजिक तत्वो के लोग बुरी आदतों जैसे-जुला खेलना, शराब का सेवन, जादू-टोना ,गलत तरीके से पटाके जलाना जैसी हरकतों को अन्जाम देते है अगर इस दिन इस प्रकार के कुरीतियों को दूर रखा जाए तो इस त्योहार को और भी मनोरंजक बनाया जा सकता है।

 

दीपावली पर निबंध 500 शब्दों में

दिपावली का संबंध दीप और प्रकाश से होता है इसीलिए लोगों के द्वारा इस त्योहार को बड़े ही शांति और सद्‌भावना के साथ मनाया जाता है दीपावली खुशियो का त्योहार है जिसे पाँच दिनो तक मनाया जाता है जैसे ही हमारे देश मे दशहरा का त्योहार समाप्त होता है तो लोग दिवाली की तैयारी मे लग जाते है इसे अमवस्था की रात को मनाया जाता है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि भगवान श्रीराम इसी दिन अपनी 14वर्ष कि वनवास को पुरा करके वापस अपने जन्मभूमि लौटे थे। जिसे लोग दीपो का त्योहार बनाकर इसे मनाए थे और तभी से उस दिन को प्रत्येक वर्ष दीपावली के रूप मे मनाया जाता हैं

 इस त्योहार के आगमन से सभी के घरों मे एक ख़ास प्रकार की रौनक आ जाती है इसी दिन के रात्री में माता लक्ष्मी कि पूजा-अर्चना की जाती है ताकि उनका आशीर्वाद उनके भक्तो पर सदा बना रहे। दीवाली के शुभ अवसर पर अनेकों प्रकार कि स्वादिष्ट मिठाईया बनाई जाती हैं

दीवाली के दो दिन पहले धनतेरह का त्योहार मनाया जाता है जिसमे लोगो के द्वारा किसी वस्तु को खरीदा जाता है और इसके अगले वाले दिन ही छोटी दीवाली मनाई जाती है जिसमे भगवान श्रीकृष्ण भी कि पूजा कि जाती है कहा जाता है कि इसी दिन श्री कृष्ण जी मे नरक सुर नाम के राक्षस का वध किया और फिर इस छोटी दिवाली के अगले दिन दिवाली मनाई जाती है और दिवाली के अगले वाले दिन गोवर्धन पूजा कि जाती है

वैसे तो हम सभी मानते है कि यह त्योहार पाँच दिनो तक मनाया जाता है जिसमे धनतेरह से लंकर भाईदूज तक का कार्यक्रम शामिल रहता है इस त्योहार के शुभ अवसर पर सभी बड़े अपने बच्चो के साथ बहुत प्रसन्न होते हैं और इस त्योहार की महत्त्व को बताते हुए अपने बच्चो को खूब प्यार और आर्शीवाद देते है

दीवाली पर निबंध 10 लाईन

•इस दीपावली के त्योहार को दीपों का त्योहार या दीपोत्सव भी कहा जाता है

•यह त्योहार भगवान श्रीराम के अयोध्या आने के खुशी मे मनाया जाता है

•इस त्योहार में लोगो के द्वारा मीट्टी के दिए का दीपक जलाया जाता है

•हिन्दू समुदाय के द्वारा इस शुभ अवसर पर धार्मिक अनुष्ठान किए जाते है हूँ

•यह त्योहार खुशियो और समृद्धि के आगमन का त्योहार हैं

•इस शुभ अवसर पर खास रूप से माता लक्ष्मी कि पूजा की जाती है

•यह भारत का एक प्रमुख और लोकप्रिय त्योहारों मे से एक है

•बच्चो के द्वारा इस त्योहार के शाम में दिए के साथ पटाखे भी जलाए जाते है

•दिपावली के त्योहार को 5 दिनो तक मनाया जाता है।

•इस त्योहार को हिन्दू समुदाय के अलावा अन्य धर्मो के लोगों के द्वारा भी मनाया जाता है।

दीपावली पर निबंध दीपावली क्यों मनाई जाती है

दीपावली का त्योहार मनाने के पीछे का कारण यह है कि इसी दिन भगवान श्रीराम 14 वर्ष का वनवास पूरा करके अपने जन्मभूमि अयोध्या मे आए थे तो उनके स्वागत में अयोध्यावासीयों ने दीप जलाकर उनका स्वागत किए थे तभी से आज तक उस दिन को दीपावली के रूप में मनाते है।

 

FAQ :

1) दीपावली किसकी याद मे मनाया जाता

उत्तर : भगवानश्री राम

2) दीपावली का प्राचीन नाम क्या है

उत्तर : दीपोत्सव

3) दीपावली पहली बार कब मनाई गई।

उत्तर: जैन धर्म के अनुसार 15 अक्टूबर 527 ईसा- पूर्व

4) दीवाली किस भाषा मे ली गई है

उत्तर : संस्कृत

5) दीपावली के रचयिता कौन है

उत्तर : इलाचंद्र जोशी

6) दीपावली का संदेश क्या है

उत्तर: बुराई पर अच्छाई की जीत

7) दीपावली का पार्श्व अर्थ क्या है

उत्तर: दीपों की पंक्ति

8) दीपावली का एक शब्द मे क्या अर्थ है

उत्तरः रौशनी कि पंक्ति

9) भारत मे पठाके कब आए थे

उतर: 1400 ई. वी. पहले

10) दिवाली पर हमे क्या नही करना चाहिए?

उत्तरः घरों में शराब, धूम्रपान और मांसाहारी भोजन का सेवन नही करना चाहिए

Thank You for Reading 

दीपावली पर निबंध