दो बैलों की कथा प्रश्न उत्तर class 9

तो दोस्तों अगर आप भी class 9 के विधार्थी हैं और गूगल पर दो बैलों की कथा प्रश्न उत्तर को ढूंढ रहे है तो आप बिलकुल ही सही पोस्ट पर आए हैं क्योंकि आज हमने इसी के बारे में बताया हैं तो चलिए शुरु करते हैं….

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

दो बैलों की कथा

दो बैलों की कथा प्रश्न उत्तर class 9

प्रश्न- अभ्यास

प्रश्न 1. कांजीहौस में कैद पशुओं की हाजिरी क्यों ली जाती होगी ?

उत्तर- कांजी हौस में कैद सभी पशु कैदी ही थे। वहाँ की दीवारें भी कच्ची ही थीं। यह देखने के लिए कि कैद पशुओं में से कोई भाग तो नहीं गया इसकी जानकारी के लिए ही उनकी हाजिरी ली जाती होगी।

प्रश्न 2. छोटी बच्ची को बैलों के प्रति प्रेम क्यों उमड़ आया ?

उत्तर- छोटी बच्ची अनाथ थी, उसकी माँ मर गई थी। सौतेली माँ उस पर अत्याचार करती थी। इन बैलों पर अत्याचार होते देख उसके मन में बैलों के प्रति प्रेम की भावना उमड़ आया।

प्रश्न 3. कहानी में बैलों के माध्यम से कौन-कौन से नीति-विषयक मूल्य उभर कर आए हैं ?

उत्तर- कहानी में बैलों के माध्यम से स्वामी के प्रति वफादारी, अन्याय और अत्याचार का पुरजोर विरोध स्वतंत्रता, मित्र-भाव, और संकट की समय में संयम बनाए रखना आदि नीति-विषयक मूल्य उभर कर आए हैं।

प्रश्न 4. प्रस्तुत कहानी में प्रेमचंद ने गधे की किन स्वभावगत विशेषताओं के आधार पर उसके प्रति रूढ़ अर्थ ‘मूर्ख’ का प्रयोग न कर किस नए अर्थ की ओर संकेत किया है ?

उत्तर- अकसर मूर्ख को गधा कहा जाता है। क्योंकि गधे को मूर्ख पशु माना जाता है। लेकिन प्रेमचंद ने उसे शांत, सहिष्णु और सुख-दुख या हानि-लाभ यानि प्रत्येक स्थिति में समान भाव वाला माना है। और उसके स्वभाव को ऋषिवत् बताते हुए उसकी तुलना ऋषि-मुनियों के स्वभाव से की है।

People also read 

किस तरह आखिरकार मैं हिंदी में आया

माटी वाली 

प्रश्न 5. किन घटनाओं से पता चलता है कि हीरा और मोती में गहरी दोस्ती थी ?

उत्तर-हीरा और मोती को एक-दूसरे के भावों और विचारों की गहरी समझ थी। हल या गाड़ी खींचत समय, दोनों अपने-अपने ऊपर ही अधिक भार पड़ने देने की कोशिश करते।

हल से खुलने पर दोनों परस्पर ‘एक-दूसरे को चाटकर थकान मिटाते। दोनों मिलकर निर्णय लेते थे, और विपरीत स्थितियों में एक-दूसरे की हिम्मत बढ़ाते थे। ऐसी अनेक घटनाएँ कहानी में वर्णित हैं, जिनसे पता चलता है कि हीरा और मोती में गहरी मित्रता थी।

प्रश्न 6. लेकिन औरत जात पर सींग चलाना मना है, यह भूल जाते हो।’ हीरा के इस कथन –के माध्यम से स्त्री के प्रति प्रेमचंद के दृष्टिकोण को स्पष्ट कीजिए।

उत्तर- मानव समाज में महिलाओं पर अत्याचार होना कोई नई बात नहीं है। स्त्री को पग-पग पर दबाया जाता है, उसका शोषण किया जाता है। उस पर हमला न करने की बात केवल कुछ समय के लिए ही सोची जाती है।

प्रश्न 7. किसान जीवन वाले समाज में पशु और मनुष्य के आपसी संबंधों को कहानी में किस तरह व्यक्त किया गया है ?

त्तर- किसान जीवन वाले समाज में पशु और मनुष्य का गहरा संबंध होता है। आपसी लगाव के कारण दोनों का एक-दूसरे के बिना रहना दुखदायी हो जाता है झूरी जब अपने दोनों बैलों हीरा और मोती को अपने से अलग करता है तो वह बड़ा बेचैन होता है और हीरा मोती भी उसके विषय में उल्टा ही सोचत हैं। लेकिन जब हीरा और मोती भागकर वापस उसके पास आ जाते हैं तो वह बड़ा खुश होता है।

तरह-तरह के दुःख उठाने और बिकने के बाद भी हीरा और मोती अपने पहले मालिक झूरी को छोड़कर कहीं नहीं जाना चाहते हैं। किसान अपने पशुओं को परिवार के सदस्यों के समान प्यार और देखभाल करता है तो पशु भी उसके आत्मीयता युक्त भाव से स्नेह के बंधन में बंधकर सदैव उसके साथ रहना चाहते हैं।

प्रश्न 8. ‘इतना तो हो ही गया कि नौ दस प्राणियों की जान बच गई। वे सब तो आशीर्वाद देंगे’ मोती के इस कथन के आलोक में उसकी विशेषताएँ बताइए।

उत्तर- ‘इतना तो हो ही गया कि नौ-दस प्राणियों की जान बच गई। वे सब तो आशीर्वाद देंगे’ मोती के इस कथन से हमें पता चलता है कि उसमें परोपकार की भावना है।

वह निरीह और विपत्ति में फँसे प्राणियों की मदद करने में विश्वास रखता है। वह आशावादी हैं। उसे विश्वास है कि उसके द्वारा किए गए अच्छे कार्य का परिणाम भी अच्छा ही होगा।

प्रश्न 9. आशय स्पष्ट कीजिए-

(क) अवश्य ही उनमें कोई ऐसी गुप्त शक्ति थी, जिससे जीवों में श्रेष्ठता का दावा करने वाला मनुष्य वंचित है।

(ख) उस एक रोटी से उनकी भूख तो क्या शांत होती; पर दोनों के हृदय को मानो भोजन मिल गया।

उत्तर- (क) यहाँ प्रेमचंद ने बताया है कि हीरा और मोती मौखिक भाषा में विचारों का आदान-प्रदान करते थे। वे बिना कुछ कहे एक-दूसरे के भाव और विचार समझ लेते थे।

हमेशा साथ-साथ रहने के कारण दोनों में गहरी दोस्ती हो गई थी और दोनों ने ही एक-दूसरे को अच्छी तरह से जान और समझ लिया था। प्रेम, आत्मीयता और घनिष्ठता के गुणों के बल पर ही वे एक-दूसरे के मन की बात जान लेते थे। यही उनकी शक्ति थी जिसके कारण श्रेष्ठ जीव मनुष्य भी उनसे पिछड़ गया।

(ख) प्रस्तुत पंक्ति का आश्य है कि प्रेम और सहानुभूति का सहारा मिलने पर प्राणी बड़े से बड़े दुःख को भी भूल जाता है। जब भैरों की बेटी भूख से व्याकुल हीरा और मीती को एक-एक रोटी खिलाती है तो इस सहानुभूति को पाकर उनकी आत्मा प्रसन्न हो जाती है और आनन्दानुभूर्ति के बल पर स्वयं को तृप्त अनुभव करते हैं।

प्रश्न 10. गया ने हीरा मोती को दोनों बार सूखा भूसा खाने के लिए दिया क्योंकि-

(क) गया पराये बैलों पर अधिक खर्च नहीं करना चाहता था।

(ख) गरीबी के कारण खली आदि खरीदना उसके बस की बात न थी।

(ग) वह हीरा-मोती के व्यवहार से बहुत दुःखी था।

(घ) उसे खली आदि सामग्री की जानकारी न थी।

उत्तर : क

 

रचना और अभिव्यक्ति

11.)हीरा और मोती ने शोषण के खिलाफ आवाज उठाई लेकिन उसके लिए प्रताड़ना भी सही। हीरा-मोती की इस प्रति क्रिया पर तर्क सहित अपने विचार प्रकट करें 

उत्तर: हीरा और मोती अपने ऊपर हो रहे शोषण को सहन नही कर रहे थे वे इसका विरोध करते थे तभी उन्हें सजा भी मिलती थी और वे गया कि गुलामी का विरोध किया तो सुखी रोटियां और डंडे मिले। हमारे नजर मे वे सही कर रहे थे

(12.) क्या आपको लगता है कि यह कहानी आजादी की लड़ाई की ओर भी संकेत करती है?

उत्तर: इस कहानी का संबंध अप्रत्यक्ष रूप से आजादी की ओर संकेत करती है जैसे – हीरा और मोती को कैद करके कांजीहोस मे रखना और उन्हें प्रताड़ित करना बदले मे उनके द्वारा अपनी आजादी के लिए संघर्ष करना। इस सभी बातें से लगता है कि यह कहानी आजादी की ओर संकेत करता हैं 

भाषा अध्ययन

13. बस इतना ही काफ़ी है।फिर मैं भी जोर लगाता हूँ। ‘ही’, ‘भी’ वाक्य में किसी बात पर जोर देने का काम कर रहे हैं। ऐसे शब्दों को निपात कहते हैं। कहानी में से पाँच ऐसे वाक्य छोटिए, जिनमें निपात का प्रयोग हुआ हो।

उत्तर : ही निपात,

i.) इतना तो हो ही गया कि नौ दस प्राणियों की जान बच गई।

ii.) गधे का छोटा भाई और भी है, जो उससे कम ही गधा है

iii) अभी भी चार ही घास खाए थे

iv) एक मुँह हटा लेता, तो दूसरा भी हटा लेता।

v)अवश्य ही उनमें कोई ऐसी गुप्त शक्ति था, जिससे जीवों में शेष्ठता का दावा करने वाला मनुष्य वंचित है

भी निपात

i)चार बातें सुनकर गम खा जाते है फिर भी बदनाम है

ii) कुत्ता भी बहुत गरीब जानवर है

iii) झुरी उन्हें फूल की छड़ी से भी न छूता था

iv.)किसी भी दशा मे बदलते नही देखा

v)गधे का एक छोटा भाई ओर भी है।

14. रचना के आधार पर वाक्य भेद बताइए तथा उपवाक्य छाँटकर उसके भी भेद लिखिए-

(क) दीवार का गिरना था कि अधमरे से पड़े हुए सभी जानवर चेत उठे।

(ख) सहसा एक दढ़ियल आदमी, जिसकी आँखे लाल थीं और मुद्रा अत्यंत कठोर, आया।

(ग) हीरा ने कहा- गया के घर से नाहक भागे।

(घ) मैं बेचूँगा, तो बिकेंगे।

(ङ) अगर वह मुझे पकड़ता तो मैं बे-मारे न छोड़ता ।

उत्तर : i)वाक्य – संयुक्त वाक्य, उपवाक्य-अधमरे-से पड़े हुए सभी जानवर चेत उठे

ii.) वाक्य- मिश्र वाक्य, उपवाक्य-जिसकी आँखे लाल थी और मुद्रा अत्यंत कठोर

iii.) वाक्य-मित्रवाक्य उपवाक्य-गया के घर से नाहक भागे

iv.) वाक्य-संयुक्त वाक्य उपवाक्य- तो बिकेंगे

v.) वाक्य-संयुक्त वाक्य, उपवाक्य-तो मै बे-मारे न छोड़ता

दो बैलों की कथा के कुछ और प्रश्न उत्तर 

fAQ:

1.)दो बैंकों की कथा से हमें क्या संदेश मिलता है?

उत्तर: सभी प्रणी को स्वतंत्रता के साथ जीने का हक है

2.) हीरा और मोती गया के घर से क्यों भागे

उत्तर :क्योंकि गया उनसे रोज मेहनत कराता और खाने मे केवल सुखा भूसा देता था

3.) बैल झुरी से क्रोधित क्यों थे?

उत्तर: क्योंकि उसने उन्हे बुरे मालिक को दे दिया था

4.) दो बैलों की कथा कहानी में दोनों बैलों के नाम क्या थे?

उत्तर : हीरा और मोती

5.) कांजीहौस का मालिक कौन था

उत्तर : एक निर्दयी आदमी

6.) हीरा और मोती को कहाँ बंद कर दिया गया था?

उत्तर :कांजीहौस मे।

 

Read more….

रीढ़ की हड्डी

मेरे संग कि औरतें