द्रौपदी मुर्मू का शिक्षा – जीवनी, राजनीतिक, दिनचर्या की पूरी जानकारी 2023

तो दोस्तो आज के इस पोस्ट पर हम द्रौपदी मुर्मू जी के वारे में पूरी जानकारी बताने जा रहे है इसलिए post को अंत तक देखे

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

द्रौपदी मुर्मू का शिक्षा – जीवनी, राजनीतिक, दिनचर्या की पूरी जानकारी 2023

द्रौपदी मुर्मू का शुरुआती जीवन 

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून को साल 1958 मे हुआ था ये ओडिशा राज्य के एक निर्धन आदिवासी परिवार से संबंध रखती है लेकिन इन्हें NDA द्वारा भारत के लिए राष्ट्रपति पद के लिए प्रस्तुत किया गया जोकि सफल भी रहा इसलिए ये इन्टरनेट कि दुनिया मे काफ़ी चर्चित रही।

 

द्रौपदी मुर्मू का परिवार 

इनके परिवार कि बात कि जाए तो इनके पिता जी का नाम बिरांची नारायण टुंड था और बड़े होने पर इनका शादी इनके ही बचपन के दोस्त श्यामचरण मुर्मू से हुआ जो कि बैंक मे काम करते थे बाद मे इनके दो बेटे हुए परन्तु 2014 में दुर्भाग्यवश इनके पति और दोनो बेटो कि मृत्यु हो गई उसके बाद इन्होने अपनी बेटी की शादी भुवनेश्वर में गणेश हेंब्रम से कराई

 

द्रोपदी मुर्मू कि शिक्षा

ये अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने एक इलाके के सामान्य विद्यालय से पूरा किए और बाद मे ग्रेजुएशन कि पढ़ाई को पूरा करने के लिए भुवनेश्वर चली गई जहाँ रामा देवी महिला कॉलेज मे दाखिला ली और अपनी ग्रेजुएशन कि पढ़ाई को पूरी कि ,बाद मे ये ओडिशा के गवर्नमेंट बिजली डिपार्टमेंट मे जूनियर असिस्टेंट के रूप में कुछ सालों तक नौकरी कि लेकिन 1934 मे रायरंगपुर मे मौजूद अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन सेन्टर में अध्यापिका के रूप मे काम करना शुरू दी और 1997 तक यहाँ काम कि।

इन्हे भी पढ़े (खास आपके लिए)

धीरेंद्र शास्त्री का जीवन परिचय

सावित्रीबाई फुले का जीवन परिचय

बिरसा मुंडा का जीवन परिचय 

द्रौपदी मुर्मू का राजनितिक जीवन 

इन्होंने अपनी राजनितिक जीवन कि शुरुआत ओडिशा से भाजपा के साथ कि जिसमे इस पार्टी को ज्वाईन करने के बाद रायगंपुर से नगर पंचायत के जिला पार्षद चुनाव मे हिस्सा ली और जीत दर्ज कि। तभी भाजपा ने इन्हे पार्टी के अनुसूचित जनजाति मोर्चा का उपाध्यक्ष बना दिया। इसके बाद ओडिशा मे भाजपा और बीजू जनता दल की गठबंधन सरकार के बदौलत इन्हे साल 2000 से 2002 मे वाणिज्य और परिवहन का प्रभार मंत्री रही और फिर 2002 से 2007 तक मत्स्य पालन और पशु संसाधन विकास मंत्री के तौर पर काम किया। तत् पश्चात ओडिशा के रायगंज से विधानसभा सीट पर विधायकी चुनाव लड़ी और जीत भी हासिल कि और 2015 से 2021 तक झारखण्ड राज्य राज्यपाल बनी।

द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति उम्मीदवार 

द्रौपदी मुर्मू को NDA की ओर से राष्ट्रपति के उम्मीदवार के रूप में घोषित किया गया और भारत कि राष्ट्रपति बनने में सफल रहती है और यह भारत मे पहली बार हुआ कि कोई आदिवासी महिला भारत देश कि राष्ट्रपति बनेगी, साथ ही यह इसे दूसरी महिला होंगी जो राष्ट्रपति पद पर विराजमान होगी.

द्रौपदी मुर्मू

द्रोपदी मुर्मू का बुरा वक्त 

शादी करने के बाद इनके तीन संताने हुए हुई और जिसमें 2 बेटे और एक बेटी थी लेकीन 2014 में दुर्भाग्यवश इनके पति और दोनो बेटो कि मृत्यु हो जाती है अब इनकी जिन्दगी मे देश के साथ अपनी एक बेटी इतिश्री है जिनका शादी गणेश हेम्ब्रम से हुआ है।

 

द्रौपदी मुर्मू का पुरस्कार 

इन्हे 2007 में ओडिशा सरकार कि ओर से नीलकंठ पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए पुरस्कृत किया गया था

 

द्रौपदी मुर्मू कि दिनचर्या 

यह अपना दिन एक व्यवस्थित तरीके से पूरा करती है ये कितनी भी व्यस्त होने पर भी सुबह जल्दी उठकर, सैर करना और योग करना कभी नही भूलती हैं ये हमेशा 3:30 बजे उठ जाती है और सैर पर निकल जाती है।

 

FAQ :

1) दौपदी मुर्मू का कौन सा राज्य है 

उत्तर : ओदिशा

2) द्रोपदी मुर्मू पहले कौन से पद पर थी ?

उत्तर : झारखण्ड की राष्ट्रपति

3) द्रोपदी मुर्मू की बेटी का नाम क्या हैं?

उत्तर : इतिश्री

4) द्रौपदी मुर्मू का कितने बच्चे है

उत्तर: तीन

5) इतिश्री मुर्मू की शादी हो चुकी है? 

उत्तर : हा

6) द्रोपदी मुर्मू के पति का नाम क्या हैं? 

उत्तर : श्यामचरण मुर्मू

7) राष्ट्रपति मुर्ख का जन्म कब हुआ था ? 

उत्तर: 20 जून 1958.