बिरसा मुंडा का जीवन परिचय 2023 ।। Birsa Munda jivan Parichay Hindi

तो दोस्तो आज हम बिरसा मुंडा का जीवन परिचय जानने वाले हैं जिसे जानने के बाद आप भी अभिभूत हो जाओगे तो चलिए बीना देरी के शुरु करते हैं

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

बिरसा मुंडा का जीवन परिचय 2023 ।। Birsa Munda jivan Parichay Hindi

बिरसा मुंडा कौन थे

बिरसा मुंडा एक आदिवासी महान नेता थे जो मुण्डा जाति से संबंध रखते थे इसलिए इन्हें बिरसा मुण्डा कहा जाता है इन्होंने अपने जीवन में कई ऐसे आन्दोलन किए जोकि स्वतंत्रता दिलाने में काफी ज्यादा मददगार साबित हुए। इसलिए इन्हें झारखण्ड राज्य का भगावान भी कहा जाता इन्होंने अपने जीवन मे काफी ज्यादा संघर्ष किए थे।

बिरसा मुण्डा का शुरुआती जीवन

बिरसा मुण्डा का जन्म 15 नवबर 1875 को झारखण्ड राज्य के खूंटी जिला के उलिहातु गाँव में हुआ था इनके पिता जी का नाम सुगना मुंडा और माता जी का नाम कर्मी हाटु था ये खुद लेकर चार भाई बहन थे जिसमें बडे भाई का नाम कामता मुंडा और दोनों बहनो का नाम डस्कीर और चंपा था। इस समय समूचे भारत में ईसाई धर्म का ही प्रचलन था जिसके चलते इनके चाचा दादा साथ कई लोगो ने इस धर्म को अपना लिए लेकिन इनके पिता जर्मन धर्म के समर्थक थे

 

बिरसा मुंडा की शिक्षा (Education of Birsa Munda) 

इनकी शिक्षा की बात कि जाए तो ये अपनी प्रारंभिक शिक्षा सलगा स्कूल मे की थी और अपनी प्राइमरी शिक्षा को प्राप्त करने के लिए बुर्जू मिशन स्कूल में दाखिला लिया लेकिन अपनी उच्च शिक्षा जर्मन मिशन स्कूल चाईबासा मे कि परन्तु यहाँ पर इनके धर्म की खूब मजाक उडाया गया इसलिए वहा से इन्हें निकाल दिया गया।

 

बिरसा मुण्डा का परिवार

बिरसा मुंडा के पिता जी का नाम सुगना सुण्डा था जोकि एक बटाईदार गांव केलटाईदार थे उनके माता जी का नाम कर्मी हाटू मुण्डा था बिरसा मुण्डा चार भाई बहन थे जिसमे बड़े भाई का नाम कोमता मुंडा और दो बहनो का नाम डस्कीर और चंपा था बिरसा कि पत्नी नही थी क्योंकि वे अविवाहित थे

बिरसा मुण्डा का जन्म स्थान 

इस महान क्रांतिकारी वीर जिन्हें आदिवासी और झारखंड राज्य समेत पुरा भारत इन्हें अपना भगवान मानते है ऐसे महानपुरुष का जन्म झारखंड राज्य के खूंटी जिला के अंतर्गत उलिहातू गाँव में हुआ था

 

बिरसा मुंडा का नारा

आदिवासी जनजातियों पर हो रहे शोषण के विरुद्ध बिरसा मुंडा ने एक नारा दिया कि “अबुआ राज एतेजना, महारानी राज ढुंडू” जिसका अर्थ है कि मुंडा राज शुरू हो गया है और महारानी एलिजाबेथ राज समाप्त हो गया है

 

बिरसा मुण्डा का आंदोलन 

बिरसा मुण्डा ने ब्रिटीश राज की समाप्त करने के लिए 1899 ई० में आन्दोलन को शुरू किया जोकि 1900 तक चला था

बिरसा मुंडा

क्यो शुरू किए आंदोलन 

बिरसा मुंडा जी ने कई कारणों को देखते हुए अपना आंदोलन शुरू किया

अदालतों से निराशा

बिरसा मुण्डा के सरदारो ने बाहरी भूस्वामियों और बेगारी के विरुद्ध अदालती से भी निराशा हाथ लगी

मिशनरियो का लालच

कई मिशनरियों ने मुण्डो को प्रलोभन दिया कि, हम आपके जमीन को वापस दिलाएंगे बदले में आप ईसाई धर्म को अपना लें, लेकिन जब कुछ मुण्डाओ ने ऐसा किया तो भी उन्होंने अपना वादा पूरा नहीं किया

बेगारी

उस समय व्यापारी, जमींदार, ठेकेदार और साहूकारों ने मण्डाओ मे सामूहिक भूस्वामित्व की भूमि व्यवस्था को समाप्त कर दिया और व्यक्तिगत भूस्वामित्व वाली भूमि व्यवस्था का प्रचलन किया जिससे बंधुआ मजदूरी के माध्यम से परेशान रहने वाले बाहरी लोग मुण्डाओं का शोषण करने लगे।

 

बिरसा मुंडा के आंदोलन का परिणाम

  •  1902 में गुमला को अनुमंडल के रूप मे स्थापना हुई
  • 1903 में खूंटी को अनुमंडल के रूप में स्थापना कि गई
  • 1903 में मुण्डा समुदाय को कुछ राहत मिली
  • बन्धुआ मजदूरी को समाप्त कर दिया गया
  • सामूहिक काश्तकारी को पुनः शुरु किया गया

 

बिरसा मुण्डा के आंदोलन का उद्देश्य

  • सभी बाहरी लोगो को बाहर निकालना
  • मुण्डाओ को हथियाएं जाने वाले जमीनों के जमीनदारो को करना भगाना
  • मुण्डाओ के जमीन को वापस करना
  • स्वतंत्र मण्डा राज की स्थापना
  • ब्रिटीश राज को खत्म करना
  • ईसाई धर्म का विरोध
  • ईसाई बने मुंडाओ का धर्म वापसी कराना

 

बिरसा मुण्डा कि मृत्यु केंसी हुई

जब अंग्रेजों ने बिरसा मुण्डा को 3 फरवरी 1900 ईस्वी मे सिंहभूम से पकड़ा तो राँची के जेल मे बंद कर दिया और 9 जून 1900 को जेल मे हैजा के फैलने के कारण उनकी मौत हो गई परन्तु अफवाह ये फैली थी कि अंग्रेजी ने उन्हें जहर दे दिया। ये खबर सुनकर उनके समुदाय और परिवार मे काफी ज्यादा शोक का पहाड़ टूट पड़ा था।

 

FAQ:

1) बिरसा मुण्डा कि मृत्यु कैसे हुई 

उत्तर: हैजा के कारण लेकिन कहा जाता है कि अंग्रेजों ने उन्हें जहर दे दिया था

2) बिरसा मंडा ने किसका विरोध किया 

उत्तर : अंग्रेजों का

3) बिरसा मुंडा लीजेंड क्यों बने

उत्तर : क्योंकि उन्होंने अपने आदिवासी समाज के लिए अंग्रेजो से लड़ गए और शहीद हो गए

4) बिरसा मुंडा को सोते समय कब गिरफ्तार किया गया था 

उत्तर : 3 मार्च 1900

5) बिरसा मुंडा कौन सी जनजाति के थे? 

उत्तर : मुडा जनजाति के थे

6) झारखण्ड का भगवान कौन है? 

उत्तर : बिरसा मुंडा

Read more…

महात्मा गांधी पर निबंध

होली पर निबंध