मेरे बचपन के दिन प्रश्न उत्तर class 9

तो दोस्तों अगर आप भी क्लास 9 के छात्र या छात्रा हैं और आप भी गूगल पर मेरे बचपन के दिन प्रश्न उत्तर ढूंढ रहे हैं तो आप बिलकुल ही सही पोस्ट पर आए हैं क्योंकि आज हमने इसी के बारे में जानकारी दी हैं तो चलिए शुरु करते हैं

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

मेरे बचपन के दिन प्रश्न उत्तर class 9

अभ्यास के प्रश्न

प्रश्न 1. ‘मैं उत्पन्न हुई तो मेरी बड़ी खातिर हुई और मुझे वह सब नहीं सहना पड़ा जो अन्य लड़कियों को सहना पड़ता है।’ इस कथन के आलोक में आप यह पता लगाएँ कि-

(क) उस समय लड़कियों की दशा कैसी थी ?

(ख) लड़कियों के जन्म के संबंध में आज कैसी परिस्थितियाँ हैं ?

उत्तर- (क) महादेवी जी के बचपन के समय लड़कियों की दशा बहुत अच्छी नहीं थी। कारण यह था कि उस समय समाज का दृष्टिकोण लड़कियों को लेकर, पारंपरिक और रूढ़िवादी विचार-प्रणाली वाला था। लोग घरों में लड़कियों की अपेक्षा लड़कों को अधिक महत्त्व देते थे।

(ख) लड़कियों के जन्म के संबंध में आज सामान्यतः पहले की तुलना में बहुत सुखद परिस्थितियाँ हैं। आज लड़कियों को भी लड़कों के साथ समाज में बराबर का दर्जा प्राप्त है। उन्हें भी वैसा ही पालन-पोषण और शैक्षिक सुविधाएँ प्राप्त हैं, जैसी लड़कों को।

प्रश्न 2) लेखिका उर्दू-फारसी क्यों नहीं सीख पाई ?

उत्तर- महादेवी की रुचि उर्दू फ़ारसी में नहीं थी। उनके बाबा यह चाहते थे कि वे उर्दू-फारसी सीखें। एक दिन जब मौलवी साहब उन्हें सिखाने आए तो अगले दिन से वे चारपाई के नीचे छिप जाती परिणाम यह हुआ कि वे उर्दू-फारसी नहीं सीख पाई।

मेरे बचपन के दिन

प्रश्न 3) लेखिका ने अपनी माँ के व्यक्तित्व की किन विशेषताओं का उल्लेख किया है ?

उत्तर- लेखिका ने अपनी माँ के व्यक्तित्व की विशेषताओं का उल्लेख करते हुए बताया है कि उनकी मां संस्कृत जानती थीं. वे लिखती और अच्छा गाती भी थीं। उन्हें विशेषकर मीराबाई के पदों का गायन प्रिय था। उन्होंने लेखिका की पढ़ाई की उत्तम व्यवस्था की। वे सांप्रदायिक सहिष्णुता को बरकरार रखने वाली महिला थीं। जब नवाब साहब की पत्नी ने उनके बेटे और लेखिका के भाई का नाम ‘मनमोहन’ प्रस्तावित किया, तो उसी नाम को स्वीकार कर उन्होंने अपने सहिष्णु होने का परिचय दिया।

प्रश्न 4) जवारा के नवाब के साथ अपने पारिवारिक संबंधों को लेखिका ने आज के संदर्भ में स्वप्न जैसा क्यों कहा है ?

उत्तर- जवारा के नवाब मुसलमान थे और महादेवी का परिवार हिंदू । लेकिन दोनों परिवारों के बीच अपार स्नेह और आत्मीयता थी। जैसे दोनों एक ही परिवार हो। जिन घटनाओं का उल्लेख महादेवी ने पाठ में किया है उन्हें पढ़कर लेखिका की यह टिप्पणी कि आज के संदर्भ में वैसे मधुर और आत्मीय संबंध ‘स्वप्न’ जैसे हैं, उचित प्रतीत होती है,

क्योंकि आज तो लोग अपने ही लोगों के साथ मिलजुल कर नहीं रहते दूसरे लोगों के साथ स्नेहपूर्वक रहना तो दूर की बात है। आज तो लोग व्यक्ति व्यक्ति के बीच नफरत के बीज बोकर हमारी सामाजिक-सांस्कृतिक एकरूपता को नष्ट करने में लगे हुए हैं।

रचना और अभिव्यक्ति

5.) जेबुन्निसा महादेवी वर्मा के लिए बहुत काम करती थी। जेबुन्निसा के स्थान पर यदि आप होती/होते तो महादेवी से आपकी क्या अपेक्षा होती ?

उत्तर : अगर मैं जेब्रुनिया के जगह पर होता तो मैं महादेवी वर्मा से प्यार, स्नेह और आदर की अपेक्षा करता और मैं चाहता कि वे मुझे कविता, काव्य लिखने और अध्ययन में सहयोग के लिए मुझे प्रेरित करें जिससे मैं भी उनके जैसा बन पाऊ ।

6) महादेवी वर्मा को काव्य प्रतियोगिता में चाँदी का कटोरा मिला था। अनुमान लगाइए कि आपको इस तरह का कोई पुरस्कार मिला हो और वह देशहित में या किसी आपदा निवारण के काम में देना पड़े तो आप कैसा अनुभव करेंगे करेंगी ?

उत्तर : अगर मुझे महादेवी वर्मा के जैसा कोई पुरस्कार मिला होता और उसका इस्तेमाल देशहित के कार्यों मे आता तो मैं इस बात से ही गर्व महसूस करता कि मैं भी अपने सैनिको भाइयो के जैसा देश हित मे सहयोग कर रहा है और मैं एक भी पल के लिए इसके बारे मे कुछ और नही सोचता और झट से उसे समर्पित कर देता।

7) लेखिका ने छात्रावास के जिस बहुभाषी परिवेश की चर्चा की है उसे अपनी मातृभाषा मे लिखिए।

उत्तर : महादेवी वर्मा के छात्रावास का माहोल बहुभाषी था यानि वहाँ पर अलग-2 भाषा बोलने वाले लोगो थे कोई अवध से थी तो वे अवधि बोलती थी, वैसे ही बुंदेलखंड कि लड़किया बुंदेली, कुछ मराठी तो कुछ हिंदी और उर्दू बोलते थे इसके बावजूद भी कि अलग-2 होने पर भी सभी हिन्दी मे बातें करते थे।

People also read

प्रेमचंद के फटे जूते

चपला देवी 

8) महादेवी जी के इस संस्मरण को पढ़ते हुए आपके मानस पटल पर भी अपने बचपन की कोई स्मृति उभरकर आई होगी, उस संस्मरण शैली में लिखिए।

उत्तर : अपने बचपन की याद खुद लिखें

9) महादेवी ने कवि सम्मेलनों में कविता पाठ के लिए अपना नाम बुलाए जाने से पहले होने वाली बेचैनी का जिक्र किया है। अपने विद्यालय में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेते समय आपने जो बेचैनी अनुभव की होगी, उस पर डायरी का एक पृष्ठ लिखिए।

उत्तर : छात्र खुद लिखें

भाषा अध्ययन

10) पाठ से निम्नलिखित शब्दों के विलोम शब्द ढूंढ़कर लिखिए- विद्वान, अनंत, निरपराधी, दंड, शांति।

उत्तर  : मुख, संक्षेप, अपराधी, पुरस्कार, अशांति

11) निम्नलिखित शब्दों से उपसर्ग/प्रत्यय अलग कीजिए और मूल शब्द बताइए-

•निराहारी

•सांप्रदायिकता 

•अप्रसन्नता

•अपनापन

•किनारीदार

•स्वतंत्रता

उत्तर : निर + आहार +ई

सम्प्रदाय + इक+ता

अ+प्रसन्न+ता

अपना + पन

किनारा+ई+दार

स्वतंत्र+ता

12. निम्नलिखित उपसर्ग-प्रत्ययों की सहायता से दो-दो शब्द लिखिए-

उपसर्ग – अन्, अ, सत्, स्व,दुर्

प्रत्यय – दार, हार, वाला, अनीय

उत्तर : उपसर्ग -अन्वेषण, अनशन, असत्य, अन्याय, सत्यचरित्र

प्रत्यय – दुर्यवहार, किनारेदार, जमींदार, पालनहार, तारणहार, पानवाला, सब्जीवाला, दर्शनीय, आदरणीय

13. पाठ में आए सामासिक पद छाँटकर विग्रह कीजिए-

उत्तर: पूजा और पाठ

उर्दू और फारसी

पांच तंत्रों से बना है जो

दुर्गा की पूजा

छात्रों का आवास 

FAQ:

1) मेरे बचपन के दिन के लेखक कौन है?

उत्तर : महादेवी वर्मा

2) मेरे बचपन के दिन कौन सी विद्या में लिखा गया है?

उत्तरः स्मरण

3) मेरे बचपन के दिन पाठ के आधार पर बताइए कि लेखिका ‘उर्दू फारसी क्यों नहीं सीख पाए ?

उत्तर : उसमें रुचि नही था

Read more…

सांवले सपनों की याद

उपभोक्तावाद की संस्कृति