हुंडरू का जलप्रपात क्लास 8 प्रश्न उत्तर II Ncert Book Solution

तो दोस्तो अगर आप भी क्लास 8th के छात्र हैं और गूगल पर  हुंडरू का जलप्रपात क्लास 8 प्रश्न उत्तर ढूंढ़ रहे हैं तो आप बिलकुल ही सही पोस्ट पर आ चुके हैं तो चलिए शुरु करते हुए

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

हुंडरू का जलप्रपात

हुंडरू का जलप्रपात क्लास 8 प्रश्न उत्तर II Ncert Book Solution

MCQ

1)छोटानागपुर क्या है?

(a) स्वर्ग का एक टुकड़ा 

(b) स्वर्ग की धरती 

(c) स्वर्ग की अप्सरा 

(d) इनमें कोई नहीं

उत्तर- (a)

2)आकाश में नीलिमा कहाँ पायी जाती है? 

(a) गुजरात में

(b) बिहार में 

(c) छोटानागपुर में 

(d) इनमें कोई नहीं

उत्तर-(c)

3) जंगली जानवरों को शरण किसने दिया?

(a) जंगलों ने 

(b) बागानों ने

(c) पर्वतों ने

(d) इनमें कोई नहीं

उत्तर- (a)

4) ‘हुंडरू जलप्रपात’ की ऊँचाई कितनी है?

(a) 200 फुट

(b) 243 फुट 

(c) 150 फुट

(d) 143 फुट

उत्तर-(b)

5) झारखण्ड की राजधानी राँची से हुंडरू जलप्रपात की दूरी है? 

(a) 20 मील 

(b) 25 मील 

(c) 27 मील 

(d) 30 मील 

उत्तर-(c)

6) “हुंडरू का जल प्रपात” पाठ के आधार पर मैदानों की छाती किसने चीरी है?

(a) बलखाती लहर ने 

(b) बल खाती नदियों

(c) पहाड़ों ने

(d) सागर ने

उत्तर-(b)

7) ‘छोटानागपुर स्वर्ग का एक टुकड़ा है” यह किस पाठ से उद्धृत

(a) बस की यात्रा 

(b) हुंडरू का जलप्रपात

(c) अमरूद का पेड़

(d) मित्रता

उत्तर-(b)

चलिए अब जानते हैं हुंडरू का जलप्रपात के पाठ के प्रश्न उत्तर को

पाठ से :

1.छोटानागपुर स्वर्ग का एक टुकड़ा है, कैसे ?

उत्तर- छोटानागपुर आकर्षक, मनमोहक और आनंददायक स्थान है। वहाँ स्वर्ग की तरह हर तरफ सुंदरता एवं शांति बिखरी पड़ी है। विभिन्न पक्षियों के कलरव, खेतों की हरियाली से यहाँ का वातावरण रोचक बन जाता है। अतः छोटानागपुर स्वर्ग का टुकड़ा है।

2. हुंडरू जलप्रपात की विशेषता लिखिए।

उत्तर- हुडरू का जलप्रपात स्थल की शोभा देवलोक जैसी है। 243 फीट ऊँची जगह से गिरता यह प्रपात पहाड़ों को चीरता पत्थर पर जिस समय गिरता हैं

उसका स्वरूप अत्यंत आकर्षक दिखता है। पानी गिर गिरकर 20 फीट ऊपर उछलता है। प्रपात से आगे का दृश्य और भी अधिक मोहक है। उससे आगे भी ऊँचे-ऊँचे प्रपात है लेकिन वहाँ तक पहुँचना कठिन है।

3. पाठ में एक दृश्य का वर्णन दो तरह से किया गया है- 

(क) हुंडरू का पानी कहीं साँप की तरह चक्कर काटता है, कहीं हिरण की तरह लोग भरता है और कहीं बाघ की तरह गरजता हुआ नीचे गिरता है।

(ख) हुंडरू का पानी चक्कर काटकर, छलाँग भरता हुआ नीचे गिरता है। इसमें से कौन-सा वर्णन आपको अच्छा लगता है और क्यों? 

उत्तर- दोनों कथनों में मुझे प्रथम कथन का तरीका अच्छा लगता है, क्योंकि प्रथम कथन में विशेष्य-विशेषण दोनों का प्रयोग है जबकि दूसरे कथन में विशेषण मात्र का प्रयोग हुआ है। प्रथम कथन अलंकार पूर्ण है। इसमें उपमा अलंकार का समावेश किया गया है। जैसे साँप की तरह चक्कर काटता, हिरण की तरह छलांग लगाना। 

4. लेखक ने पाठ में किस किंवदंती की बात की है और क्या सलाह दी है ? 

उत्तर- किंवदंती यह है कि इस हुंडरू से सात मील पर कुछ लोगों ने एक प्रपात देखा जो इससे कई गुणा बड़ा है, पर वहाँ जाने का रास्ता इतना बीहड़, घनघोर और भयंकर है कि जंगल के उस भाग में पहुँच सकना दुश्वार है। सरकार को चाहिए की इस बात की सत्यता का पता लगाकर वहाँ तक यातायात की सुविधा प्रदान कर दें ताकि वह स्थान भी जनता के सामने आ सके।

5. एक ओर पृथ्वी अपने कोष को उगल रही है, तो वह कोयला बन कर लोगों के घरों में सोना ला रहा है- भाव स्पष्ट करें। 

उत्तर- भाव यह है कि धरती अपने कोष से कोयला दे रही है जिसका उपयोग हम ईंधन के रूप में करते हैं जिससे हमारा भोजन बनता है। अर्थात् जीवन चलता है। जीवन में ऊर्जा की महत्ता सर्वविदित है। यह ऊर्जा भी धरती की कोख से निकती है। वह अपने निवासियों को इतनी देखभाल करती है।

पाठ से आगे

1. छोटानागपुर के बारे में आप क्या जानते हैं? झारखंड से इसका क्या संबंध है?

उत्तर- छोटानागपुर राँची से 37 मील दूर है। यहाँ हुंडरू का जलप्रपात प्रसिद्ध स्थान है। यह झारखंड का एक सुंदर, मनमोहक स्थल हैं जो राँची जिले का एक भाग है।

2. इस छोटानागपुर में कई दर्शनीय झरने हैं। यहाँ लेखक किन झरनों की बात कर रहे हैं?

उत्तर-यहाँ लेखक हुंडरू के झरने एवं उसके ऊपर के झरनों की बातें कर रहे हैं।

3. एक ओर… रही है। झारखंड के संदर्भ में ये पंक्तियाँ बिल्कुल सही है, कैसे ? कोयला और अबरक के लिए झारखंड में कौन से स्थान प्रसिद्ध हैं ? 

 

उत्तर- अवरख के लिए कोडरमा एवं कोयला के लिए सिंहभूम, हजारीबाग आदि प्रसिद्ध हैं।

 

Read more…

डायन एक अंधविश्वास

अशोक का शस्त्र त्याग