Bihu Festival Date 2024 :इतिहास ,धार्मिक मान्यता क्या हैं

Bihu Festival भी एक प्रकार का असम के लोगो के लिए काफी पवित्र त्योहार है जिसे बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है और जिस प्रकार पंजाबियों के लिए लोहड़ी होता है ठीक उसी प्रकार असम के लोगो के लिए Bihu Festival होता हैं जोकि साल मे तीन बार मनाया जाता हैं

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

तो अगर आपको भी इस पवित्र त्योहार के बारे मे पूरी और सटीक जानकारी चाहिए तो आपको भी इस लेख को अंत तक पढ़ना होगा क्योंकि आज के इस पोस्ट पर इसी त्योहार से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी को बताया गया है साथ ही यह भी बताया गया है की इस साल 2024 मे किस तिथि को Bihu Festival को मनाया जाएगा और चलिए इसकी शुरुवात करते हैं

Bihu Festival क्या होता हैं

इस त्योहार को भारत के असम राज्य के लोगो के द्वारा मनाया जाता है जोकि साल मे तीन बार आता है और जब यह त्योहार पहली बार जनवरी के महिना मे आता है तो उसे भोगाली बीहू कहते है और जब साल के अप्रैल के महिना मे आता है तो उसे रोनगाली बीहू के नाम से जानते है और जब साल के अंतिम के महिना अकतूबर मे आता हैं तो उसे काती बीहू से जानते हैं

असम मे नए साल की शुरुवात अप्रैल के बीहू के दिन से ही किया जाता है साथ ही इस त्योहार को असम के लोगों के द्वारा पूरे सात दिन तक बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जाता हैं जिसमे उनके घरों मे कई तरह के पकवान बनते हैं जिसे भगवान को भोग लगाया जाता हैं

Bihu Festival के पकवान

इस त्योहार के शुभ औसर पर तो कई प्रकार के व्यंजन बनते हैं परंतु खास पकवान के रूप मे नारियल के लड्डू ,तिल पीठा ,घिला पीठा ,मच्छी पिटिका जैसे स्वादिष्ट पकवान सभी के घरों मे बनत

इसे भी पढे- Gangaur Ki Kahani 2024 : गीत ,Quotes और भी बहुत कुछ

Bihu Festival 2024 Date

इस साल असम के लोगो के द्वारा 14 अप्रैल 2024 से लेकर 21 अप्रैल 2024 तक Bihu Festival के त्योहार को मनाया जाएगा जिसमे सभी के चेहरों पर एक खास प्रकार के रौनक की देखा जा सकता है क्योंकि यह त्योहार अपने साथ कई तरह के खुशियों को लेकर आता हैं

Bihu Festival की धार्मिक मान्यता

यह पर्व असम के लोगो के लिए बहुत ही शुभ होता है क्योंकि इस दिन के बाद ही असम मे फसल की कटाई और शादी वियाह की शुभ मुहूर्त शुरू हो जाते हैं साथ ही इस शुभ औसर पर गाँव के किसान भाई लोग भगवान से प्रार्थना करते है की उनके घरों मे कभी भी अनाजों की कमी कभी भी ना हो

इस त्योहार के शुभ औसर पर इसे बहुत ही धूम धाम के साथ मनाया जाता है और तिल ,नारियल ,चावल ,दूध जैसी चीजों का उपयोग करके अलग अलग प्रकार के पकवान को बनाया जाता हैं इस पवित्र अवसर पर गाय की पूजा करना विशेष रूप से पवित्र माना जाता हैं जिसमे किसान अपने अपने गायों को नदी मे लेकर जाते है और कच्ची हल्दी के साथ नहवाते है इस दिन की शुरुवात गाय को नहलाकर और हरी सब्जियों के रूप मे लौकी ,बैगन खिलाने की परंपरा होती हैं इसके पीछे असम के लोगो का कहना है की अगर घर के गाय की सेहत अच्छी रहेगी तो घर परिवार मे सुख शांति हमेशा बना रहेगा

कैसे मनाते है bihu festival

इस त्योहार को मनाने के लिए किसी खाली जगह पर धान की पुआल से अस्थायी छावनी बनाई जाती है जिसे भेलाकर कहते हैं और इसी छावनी के आस पास 4 बांस को लगाकर पुआल एवं लकड़ी से ऊंचे गुंबज जैसा आकृति बनाया जाता हैं जिसे लोग मेजी कहते हैं जिसमे गाँव के सभी लोग रात मे भोजन करते है

इसे भी पढे – Chaitrra Navratri Wisnes in Hindi 2024 : मातारानी का आगमन

साथ ही उरुका के दूसरे दिन नहाने के बाद मेजी को जलाकर बीहू की शुरुवात किया जाता हैं और फिर इसके बाद गाँव के सभी लोग  इसके चारों ओर खड़ा होकर भगवान से मंगल की कामना करते हैं साथ ही सभी लोग अपनी मंगलकामना के लिए अलग अलग प्रकार की वस्तुवों की भेट भी मेजी को चढ़ाते है साथ इसके साथ वेलोग अपनी खुशी को इजहार करने के लिए नृत्य भी करते हैं

अंतिम शब्द

तो साथियों आज के शानदार पोस्ट पर हमने आपको Bihu Festival के बारे मे आपको बताया साथ ही हमने आपको यह भी बताया कि इस साल की दिन Bihu Festival को मनाया जाएगा तो अगर आपको मेरी यह पोस्ट पसंद आया होगा तो इसे जरूर ही शेयर करें