Jharkhand Board Class 8 History Chapter 6

Jharkhand Board Class 8 History Chapter 6

सही विकल्प का चयन करें-

1. 1857 ई. के विद्रोह के समय भारत का गवर्नर जनरल कौन था ?

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

(a) लॉर्ड मिंटो

(b) रॉबर्ट क्लाइव

(c) लॉर्ड बेलेस्ली

(d) लॉर्ड कैनिंग

उत्तर- (d)

2. बाबू कुँवर सिंह जिला किस राज्य से संबंधित थे ?

(a) उड़ीसा

(b) झारखण्ड

(c) बिहार

(d) मेरठ

उत्तर-(c)

 

3. लक्ष्मीबाई कहाँ की रानी थी ?

(a) कानपुर

(b) बरेली

(c) लखनऊ

(d) झाँसी

उत्तर- (d)

4. तात्या टोपे के सेनापति थे-

(a) बिरजिस कद्र के

(b) नाना साहेब

(c) रानी लक्ष्मीबाई

(d) बेगम हजरत महल

उत्तर-(b)

 

5. कानपुर में 1857 के विद्रोह की अगुवाई किसने की थी ?

(a) शुजाजुद्दौला

(b) नाना साहेब

(c) मीर कासिम

(d) अजीमुल्लाह

उत्तर-(b)

6. झाँसी में 1857 में सिपाही विद्रोह का नेतृत्व किया था-

(a) रानी लक्ष्मीबाई

(b) तात्या टोपे

(c) कर्ण सिंह

(d) पीर अली

उत्तर- (a)

7. पेशवा बाजीराव द्वितीय का दत्तक पुत्र कौन था ?

(a) नाना साहेब

(b) तात्या टोपे

(c) मंगल पाण्डे

(d) यदुवेन्द्र

उत्तर- (a)

 

8. बहादुरशाह जफर ने किसके सहयोग से विद्रोह का नेतृत्व किया ?

(a) बख्त खाँ

(b) वाजिद अलीशाह

(c) तात्या टोपे

(d) अजीमुल्लाह

उत्तर- (a)

9.1857 के विद्रोह को किस नाम से जाना जाता है-

(a) राष्ट्रीय आंदोलन

(b) सिपाही विद्रोह

(c) स्वतंत्रता संघर्ष

(d) बस्तर विद्रोह

उत्तर-(b)

10.भारत के अंतिम मुगल बादशाह था –

(a) बहादुर शाह द्वितीय

(b) दारा शुजा

(c) सिराजुद्दौला

(d) मीर कासिम

उत्तर- (a)

11.हजारीबाग छावनी में विद्रोह कब हुआ था ?

(a) 30 जुलाई 1857

(b) 18 जून, 1857

(c) 30 जून, 1857

(d) 25 जुलाई, 1857

उत्तर- (a)

12. झारखण्ड में सिपाही विद्रोह की शुरूआत कब हुई ?

(a) 10 मई, 1857

(b) 18 जून, 1857

(c) 12 जून, 1857

(d) 15 अगस्त, 1857

उत्तर-(c)

13. चुटुपालु (ओरमांझी) घाटी में विद्रोह कब हुआ ?

(a) 30 सितम्बर, 1857

(b) 25 जून, 1857

(c) 31 जुलाई, 1857

(d) 28 जुलाई, 1857

उत्तर-(c)

14.राँची में विद्रोही सैनिकों का नेता (नायक) था-

(a) विश्वनाथ शाहदेव

(b) जयमंगल पाण्डे

(c) मंगल पाण्डे

(d) पाण्डेय गणपत राय

उत्तर- (d)

15. किस अंग्रेज अधिकारी ने ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव को फाँसी पर लटका दिया ?

(a) कर्नल डाल्टन

(b) जनरल डायर

(c) नॉर्मन लेस्ली

(d) मेजर सौन्डर्स

उत्तर -(a)

16 . नीलाम्बर और पीताम्बर कहाँ के महान स्वतंत्रता सेनानी थे ?

(a) गढ़वा

(b) पलामू

(c) संथाल परगना

(d) हजारीबाग

उत्तर-(b)

 

17. ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव को कब फाँसी दी गई ?

(a) 10 मार्च, 1858

(b) 16 अप्रैल, 1858

(c) 16 अप्रैल, 1859

(d) 16 अप्रैल, 1857

उत्तर-(b)

Jharkhand Board Class 8 History Chapter 6

Jharkhand Board Class 8 History Chapter 6  Overview

कक्षा 8
विषय सामाजिक विज्ञान
पाठ 6
बोर्ड झारखंड बोर्ड

Jharkhand Board Class 8 History Chapter 6 अभ्यास का प्रश्न उत्तर

प्रश्न 1. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(क) 1857 ई० की क्रांति को….विद्रोह भी कहा जाता है

(ख) भारतीय सैनिक….जाना धर्म के विरूद्ध समझते थे।

(ग) नीलांबर-पीतांबर…….के दो महान स्वतंत्रता सेनानी थे।

(घ) कंपनी सरकार ने 1856 में….अनुमति दी थी। (ङ) ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव को….राइफल के प्रयोग की में फाँसी दी गई।

उत्तर- (क) सिपाही (ख) समुद्र पार (ग) पलामू (घ) इनफील्ड (ङ) 16 अप्रैल, 1856 ई०

प्रश्न 2. निम्न प्रश्नों के उत्तर संक्षेप में दीजिए-

क) लक्ष्मीबाई अंग्रेजों के विरुद्ध क्यों लड़ी ?

उत्तर- लॉर्ड डलहौजी ने हडपो नीति के तहत गोद लेने की प्रथा को अवैध घोषित कर दिया। झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई के दत्तक पुत्र को अंग्रेजों ने राजा मानने से इन्कार कर दिया और झाँसी को ब्रिटिश राज्य में मिला लिया। और लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजो के विरुद्ध लड़ाई लड़ी

(ख) भारतीय सैनिकों ने नई राइफल का प्रयोग करने से क्यों मना किया था ?

उत्तर-नई एनफील्ड राइफल में कारतूस के ऊपरी भाग को मुँह से काटकर बंदूक में भरना पड़ता था। जनवरी 1857 ई० में बंगाल की सेना में यह अफवाह फैल गई कि चर्बी वाले कारतूस में गाय एवं सूअर की चर्बी है, जो हिन्दू तथा मुसलमान दोनों की धार्मिक आस्था पर चोट थी। इसी वजह से भारतीय सैनिकों की नई राइफल का प्रयोग करने से मना किया था।

(ग) 1857 की क्रांति कब और कैसे शुरू हुई ?

उत्तर- चर्बी वाले कारतूस की अफवाह सभी छावनियों में तेजी से फैल गयी। सैनिकों ने इन कारतूसों का प्रयोग करने से मना कर दिया।

29 मार्च, 1857 ई० को अपनी रेजीमेंट बैरकपुर (मुर्शिदाबाद) छावनी में मंगल पाण्डे ने अपने साथियों के साथ विद्रोह कर दिया। अंग्रेजों ने मंगल पाण्डे को फाँसी दे दी। यह सूचना जंगल में आग की तरह फैल गई। 10 मई, 1857 ई० में मेरठ में सिपाहियों ने खुले तौर पर विद्रोह कर दिया।

(घ) नाना साहेब कौन थे ?

उत्तर- नाना साहेब मराठा पेशवा बाजीराव द्वितीय के दत्तक पुत्र और सिपाही विद्रोह के समय के स्वतंत्रता सेनानी थे।

(ङ) झारखंड में 1857 की क्रांति की शुरूआत कब और कैसे हुई

उत्तर- दानापुर कैंट में हुए विद्रोह की सूचना से प्रेरित होकर 12 जून, 1857 में रोहिणी गाँव (वर्तमान देवघर और तत्कालीन हजारीबाग) से क्रांति की शुरूआत हुई। इसका नेतृत्व अमानत अली, सलामत अली तथा सेख हारूण ने किया

जिन्हें फाँसी दे दी गई। 30 जुलाई को हजारीबाग और 2 अगस्त को राँची डोरंडा छावनी, और 31 जुलाई को चुटपाली घाटी में विद्रोह हुआ।

(च) चुटुपाली घाटी में झारखंड के किन स्वतंत्रता सेनानियों को फाँसी दी गयी थी 

उत्तर- चुटुपाली घाटी में झारखंड के माधव सिंह, नादिर अली, डुमराँव सिंह, शेख भिखारी आदि स्वतंत्रता सेनानियों को फाँसी दी गई थी।

प्रश्न 3. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

(क) देशी राजाओं ने 1857 की क्रांति में भारतीय सैनिकों की मदद क्यों की थी?

उत्तर- लॉर्ड डलहौजी ने ब्रिटिश साम्राज्य के विस्तार के लिए विलय या हड़प नीति अपनाई । उसने गोद लेने की प्रथा को अवैध घोषित कर दिया और सतारा, नागपुर, संथालपुर झाँसी और बरार आदि राज्यों पर अधिकार कर लिया था।

कुशासन का आरोप लगाकर अवध को ब्रिटिश राज्य में मिला लिया। मुगल बादशाह को नाजनाराना बंद कर दिया। सिक्कों पर से बादशाह का नाम हटा दिया गया। इन कारवाइयों से कमजोर हो चुके शासक परिवार परेशान हो गए तथा अन्य शासकों में भी भय फैल गया। 

देशी राजाओं की सेनाओं को भंग कर दिया गया। इन सब कारणों से देशी राजा अंग्रेजों के घोर विरोधी हो गए और 1857 की क्रांति में न केवल भारतीय सैनिकों की मदद की बल्कि कई राजाओं ने विद्रोह में खुलकर भाग लिया।

(ख) 1857 की क्रांति के बाद भारत में क्या बदलाव हुआ ? 

उत्तर- 1857 की क्रांति असफल रही, फिर भी अंग्रेजों को अपनी नीतियों को बदलना पड़ा। कुछ बदलाव निम्न थे-

(i) कंपनी से भारत पर शासन करने का अधिकार छिन गया और ब्रिटिश महारानी के हाथ में चला गया।

(ii) भारतीय सिपाहियों की संख्या घटा दी गई। यूरोपीय सिपाहियों की संख्या बढ़ाई गई। सिपाही के लिए गोरखा, सिक्खों और पठानों की भर्तियों की गयीं।

(iii) भारत के शासन के लिए एक भारतीय मंत्री या सचिव तथा 16 सदस्यों वाली इंडिया कौंसलिग बनाई गई।

(iv) विलय या हड़प की नीति समाप्त कर दी गई। साम्राज्य विस्तार की नीति तो समाप्त हो गई पर आर्थिक शोषण का युग प्रारम्भ हो गया।

(v) अंग्रेजों ने भारतीयों के धर्म एवं सामाजिक रीति-रिवाजों का सम्मान करने का फैसला किया।

(vi) भारतीयों में राष्ट्रीय एकता की भावना का विकास हुआ।

(ग) भारतीय ऐसा क्यों सोचते थे कि अंग्रेज उन्हें ईसाई बनाने आए हैं 

उत्तर-कम्पनी सरकार ने समाज सुधार के कई काम किये। सती-प्रथा, नरबलि को बंद करना, विधवा विवाह को बढ़ावा देना आदि के लिए कानून बनाया गया। हालाँकि ये कानून भारतीयों के लिए हितकर थे, लेकिन रूढ़िवादिता के कारण भारतीयों को लगने लगा कि अंग्रेज भारत में अंग्रेजी सभ्यता का प्रचार चाहते हैं। 

अंग्रेजी शिक्षा, स्त्री-शिक्षा, रेल, डाक व तार आदि का विस्तार होने से उनकी आशंका बढ़ती गई। 1850 ई० में पारित विधेयक ने उनकी आशंका को और बल दिया जिसमें ईसाई धर्म स्वीकार करनेवाले व्यक्ति को अपनी पैतृक संपत्ति का हकदार माना गया। इन्हीं कारणों से भारतीय सोचते थे कि अंग्रेज उन्हें ईसाई बनाने आए हैं।.

 

(घ) 1857 की क्रांति को दबाने के लिए अंग्रेजों ने क्या किया था?

उत्तर- 1857 की क्रांति को कंपनी ने पूरी ताकत लगाकर कुचलने का फैसला किया। उन्होंने इंगलैण्ड से और अधिक सैनिक मँगवाए। विद्रोह के मुख्य केन्द्रों पर धावा बोल दिया गया। विद्रोहियों को सजा जल्दी देने के लिए नए कानून बनाए।

दिल्ली पर कब्जा कर अंतिम मुगल बादशाह बहादुरशाह द्वितीय पर मुकदमा चलाकर और आजीवन कारावास की सजा देकर रंगून जेल भेज दिया गया। सैकड़ों सैनिकों, विद्रोहियों, नवाबों और राजाओं को फाँसी पर लटका दिया गया।

इन्हे भी पढे 

class 8 science chapter 18 

class 8 science chapter 17 

class 8 science chapter 16